दिनकर टाइम्स के बारे में





हम बनेंगे जनता की आवाज

समाचारपत्र तो बहुत हैं इस शहर में पर कितने ऐसे हैं जिन्होंने अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन किया है। समाचार पत्र कोई दुकान नहीं, जहां से सामान की खरीदारी होती हो, यह एक मिशन है जो जनता को राह दिखाता है और प्रशासन व सरकार को आईना। लेकिन यह काम भी साहस का होता है। हर कोई नहीं कर पाता। हम करने आ रहे हैं कुछ ऐसा ही, जैसा आप चाहते हैं। जिसमें अपनापन सा दिखे, कुछ कर दिखाने का जज्बा नजर आए। आपको लगे भी कि जो हम चाहते थे, वो समाचारपत्र अब मिल गया। दिनकर टाइम्स आपकी आवाज, आपका मंच बनने के लिए आपके बीच बहुत शीघ्र आ रहा है। वो भी सुबह की भीड़ से अलग। अपने अलग नजरिये, अपनी अलग सोच के साथ हर शाम आपके हाथों में हुआ करेगा।
निश्चित रूप से समाचारपत्र का काम बेहद चुनौतीपूर्ण है और ऐसी चुनौती हर कोई स्वीकार भी नहीं पाता। कहते भी हैं कलम उन्हीं हाथों में अच्छी लगती है, जो समाज का भला कर सकें। जो कुछ बुराइयां पसरी हैं, उन्हें अपनी कलम से दहन कर सकें। दिनकर टाइम्स बुराइयों के खात्मे और समस्याओं पर चोट करने के लिए जनता की आवाज बनेगा। आपकी हर आवाज को शिद्दत के साथ उठाएगा। समाचारपत्र एक सेतु के रूप में काम करेगा। हर रोज समाचारपत्र में वो सब मिलेगा, जो तलाशने पर आपको कहीं और नहीं मिल पाता।
बिल्कुल अलग नजरिये के साथ दिनकर टाइम्स हर रोज शाम को ताजी खबरें परोसेगा ताकि उसका स्वाद अलग हो। अभी तक अपने शहर, जिले, प्रदेश और देश में क्या हुआ, इसका या तो सोशल मीडिया से आधा अधूरा पता लग पाता है, अथवा अगले दिन सुबह आने वाले समाचारपत्रों से। यानी आपके पास ऐसा कोई माध्यम नहीं, जो आज की दिन भर की खबर आज ही आप तक पहुंचा सके। इस काम को आसान करने के लिए ही अब हम आपके बीच आ रहे हैं। दिनकर टाइम्स शहर का पहला ऐसा सांध्य समाचारपत्र होगा, जो तड़के तीन चार बजे से शाम तीन बजे तक की हर घटना, हर कार्यक्रम और हर छोटी बड़ी सूचना आप तक उसी दिन पहुंचाएगा और वो भी पूरी ईमानदारी के साथ। स्थानीय ही नहीं, देश-दुनिया की नवीनतम घटनाओं से भी अवगत कराएगा। राजनीति, खेल, मनोरंजन, धर्म-कर्म, अर्थव्यवस्था, रोजगार से संबंधित हर खबर मिलेगी। चूंकि अखबार का जन्म मेरठ जैसे क्रांतिकारी शहर से हुआ है, इसलिए ये वादा है कि अखबार अपनी निष्पक्षता और ईमानदारी का पूरा पालन करेगा। जनता के मुद्दे, शहर के मुद्दे उठाएगा। मुद्दों को प्रशासन और सरकार तक लेकर जाएगा। खबरों के जरिये दबाव बनाएगा कि समस्याओं का अंत हो। हमें पूरा भरोसा है कि आप अपने नवोदित अखबार को सहयोग करेंगे। उसे न सिर्फ पढ़ेंगे, बल्कि आगे बढ़ाने के लिए अपनी बेशकीमती राय भी देंगे। हम वादा करते हैं कि दिनकर टाइम्स सदा आपकी आवाज रहेगा।